एमपी: धर्मांतरण के आरोप में 30 पादरी हिरासत में, थाने पहुंचे ईसाई धर्मगुरुओं की जलाई कार

priests-620x400मध्यप्रदेश के सतना शहर के एक गांव में कैरोल गा रहे 30 से ज्यादा पादरियों और सेमिनरीज को पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में ले लिया है। बजरंग दल ने आरोप लगाया कि वह धर्मांतरण करा रहे थे। शुक्रवार को राज्य के एंटी कन्वर्जन लॉ के तहत एक पादरी को गिरफ्तार कर लिया गया। जबकि कुछ पादरियों और सेमिनरीज को छोड़ दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस परिसर में ही बजरंग दल के लोगों ने उनके साथ झगड़ा किया। वहीं पुलिस और बजरंग दल दोनों ने इससे इनकार किया है। शुक्रवार को सिविल लाइन्स पुलिस थाने में हिरासत में लिए गए लोगों के बारे में पूछने आए आठ पादरियों को भी हिरासत में ले लिया और उनकी कार जला दी गई।

पुलिस ने बताया कि उन्हें नहीं मालूम कि कार किसने जलाई है। उन्होंने यह भी कहा कि आईपीसी के सेक्शन 435 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। शुक्रवार को सेंट एफ्रफ थियोलॉजिकल कॉलेज में पढ़ाने वाले एम जॉर्ज और पांच अनजान लोगों पर धर्मेंद्र दोहर की शिकायत पर धर्म अधिनियम की स्वतंत्रता एवं धारा 153-बी और 295-ए के तहत मामला दर्ज किया गया है। दोहर का आरोप है कि उन्हें ईसाई बनने के लिए पैसा अॉफर किया गया था।

21 वर्षीय भुमकार गांव के निवासी ने आरोप लगाया कि मिशनरी इस गांव में पिछले दो वर्ष से सक्रिय हैं और धर्मांतरण के लिए तालाब में डुबकी लगाने के बाद उसे 5 हजार रुपये, एक क्रॉस और बाइबिल दी गई। दूसरी ओर कैथलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने जबरदस्ती धर्मांतरण कराने के आरोपों का खंडन किया है। सीबीसीआई की ओर से कहा गया कि थियोलॉजिकल कॉलेज के 30 सेमिनरीज और दो पादरियों को पुलिस ने उस वक्त गिरफ्तार कर लिया जब वह कैरोल सिंगिंग प्रोग्राम आयोजित करा रहे थे। संस्था के मुताबिक एेसा वे पिछले 30 वर्षों से कर रहे हैं।

Related posts

Leave a Comment